देहरादून,डीटी आई न्यूज़।

आगामी विधानसभा चुनाव से पहले लैंसडौन क्षेत्र के विधायक दिलीप रावत और कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत के बीच छिड़ी रार ने भाजपा को असहज स्थिति में ला दिया है। विधायक ने तो मंत्री के विरुद्ध आमरण अनशन की चेतावनी तक दे डाली है। यह प्रकरण सामने आने के बाद पार्टी ने इसका संज्ञान लिया है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि वह शुक्रवार को ही हल्द्वानी से लौटे हैं। जहां तक विधायक और मंत्री के बीच तकरार की बात है तो शनिवार अथवा रविवार को दोनों से बातचीत की जाएगी। यदि कोई विषय है तो उसका समाधान किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी में अनुशासन सर्वोपरि है और इसे तोडऩे की अनुमति किसी को नहीं दी जा सकती।


हाल में कोटद्वार मेडिकल कालेज को लेकर कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत ने जिस तरह के तेवर अपनाए, उससे भाजपा को असहज होना पड़ा था। अभी इस प्रकरण की आंच ठंडी भी नहीं हुई थी कि अब कैबिनेट मंत्री हरक सिंह और लैंसडौन क्षेत्र के विधायक दिलीप रावत के बीच तलवारें खिंचने का मामला सामने आने से पार्टी की मुश्किलें बढ़ गई हैं। प्रकरण में पार्टी नेतृत्व क्या निर्णय लेता है, इस पर सभी की नजरें टिकी हैं।

By DTI

error: Content is protected !!