रुड़की,इमरान देशभक्त।ईद-उल-अहजा का त्यौहार नगर व आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में पूरी श्रद्धा और अकीदत के साथ मनाया गया।नगर की ईदगाह में मुफ्ती मोहम्मद सलीम ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए ईद-उल-अजहा की नमाज अदा कराई।नमाज से पूर्व अपने बयान में मुफ्ती मोहम्मद सलीम ने कहा कि इस त्यौहार में इस्लाम धर्म के मानने वाले लोग अल्लाह की रजा के लिए उसकी राह में कुर्बानी करते हैं।इस्लाम में जहां नमाज,रोजा,जकात और हज फर्ज की गई है,उसी तरह कुर्बानी भी एक फर्ज इबादत है।इस त्यौहार की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि पैगंबर सुन्नते इब्राहिम और इस्लाम में इसका बड़ा महत्व है। यह त्यौहार हमें इंसानियत और त्याग का संदेश देता है,साथ ही हमें अपने वतन से मोहब्बत करना भी सिखाता है।उन्होंने कहा कि इस दिन हमें इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि उनके अमल से किसी व्यक्ति अथवा पड़ोसी को कोई तकलीफ ना पहुंचे।सब मिलकर सद्भाव और शांति के साथ इस त्यौहार की खुशियों को बांटे।नगर की प्रमुख जामा में मौलाना अरशद कासमी ने ईद की नमाज सोशल डिस्टेंसिंग में रहकर पढ़ाई।नमाज से पहले अपने खुतबे में उन्होंने कहा कि पैगंबर मोहम्मद साहब की सीरत में इससे बचने की खुली तालीम शरीयत की पुस्तकों में मौजूद है। कुर्बानी के जानवर के फुजरात (गंदगी) रास्तों या अवामी जगहों पर ना फेंके,बल्कि नगर निगम द्वारा की गई व्यवस्था का प्रयोग करें।कुर्बानी करते वक्त जानवर की फोटो न डाली जाए और ना ही इसको सोशल मीडिया पर अपलोड किया जाए।कुर्बानी के जानवर का खून नालियों में ना बहाया जाए,ऐसा करना शरीयत में ना पसंदीदा अमल है,बल्कि इसको कच्ची जमीन में दफन कर दें,ताकि पेड़-पौधों की खाद बन सके।उन्होंने नगर की अवाम को ईद-उल-अजहा की मुबारकबाद दी।इसके अलावा रूड़की मरकज,रामपुर मदरसा, माधोपुर,पाडली गुज्जर सहित सभी ग्रामीण क्षेत्रों में अपनी-अपनी मस्जिदों में ईद-उल-अजहा की नमाज अदा की गई।पुलिस प्रशासन द्वारा सभी मुस्लिम इलाकों में पूरी सतर्कता बरती गई,ताकि यह त्यौहार शांतिपूर्वक मनाया जा सके।इस अवसर पर विधायक हाजी फुरकान अहमद,अफजल मंगलौरी,मौलाना नसीम कासमी,कारी शमीम अहमद, डॉक्टर इरशाद मसूद,मास्टर शमसुद्दीन,डा.नैय्यर काजमी, हाजी नौशाद अहमद,हाजी लुकमान कुरैशी,डॉ.मोहम्मद मतीन,शेख अहमद जमा,हाजी सलीम खान,अलीम सिद्दीकी,सैयद नफीस उल हसन,इमरान देशभक्त,हाजी गुलफाम अहमद,राव मसरूर, साबिर अली,हाजी महबूब कुरैशी,सलमान फरीदी आदि मौजूद रहे।

By DTI

error: Content is protected !!