देहरादूनःडीटी आई न्यूज़।उत्तराखंड में चारधाम यात्रा पूरी पीक पर चल रही है. चारों धामों में भक्तों का सैलाब उमड़ रहा है. सोशल मीडिया की दुनिया में भी केदारनाथ शब्द सबसे ज्यादा ट्रेंड कर रहा है, लेकिन चारधाम से कुछ ऐसे वीडियो भी सामने आ रहे हैं. जो तीर्थ स्थलों की पवित्रता को धूमिल करने के साथ आस्था के साथ खिलवाड़ भी कर रहे हैं. खासकर केदारनाथ धाम में यूट्यूबर और ब्लॉगरों की करतूतों से आस्था को ठेस पहुंच रही है. जिनके खिलाफ सरकार कड़ा रुख अख्तियार कर सकती है.
केदारनाथ धाम क्यों बन रहा है TRP प्वॉइंटः चारधाम में सबसे ज्यादा भीड़ केदारनाथ धाम में उमड़ रही है. केदारनाथ में लगने वाली इस भीड़ में एक बड़ी संख्या यूट्यूबर और ब्लॉगर की भी है. जो केदारनाथ पहुंचते ही वीडियो और रील बनाने लग जाते हैं. आलम तो ये है कि धाम में हाथ जोड़े कम, मोबाइल या कैमरा पकड़े लोग ज्यादा नजर आ जाते हैं. यही वजह कि इस वक्त केदारनाथ की वर्ड ट्रेंडिंग की लिस्ट में सबसे ऊपर है. सोशल मीडिया में भी केदारनाथ धाम टॉप ट्रेंडिंग पर है. केदारनाथ धाम आस्था के केंद्र के साथ टॉप टीआरपी गेन डेस्टिनेशन के रूप में भी उभर कर सामने आया है.।


व्यस्तकेदारनाथ की ब्रांडिंगः केदारनाथ धाम के प्रति अचानक बढ़े इस अप्रत्याशित आकर्षण के पीछे कहीं न कहीं कई बड़े कारण भी हैं, इसमें जो सबसे बड़ा कारण है वो है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की केदारनाथ के प्रति आस्था. यह सबने देखा है कि पीएम नरेंद्र मोदी की किस प्रकार बाबा के प्रति असीम आस्था है. पीएम मोदी जब भी केदारनाथ आते हैं तो उनके केदारनाथ दौरे का प्रसारण पूरे देश में किया जाता है. केदारनाथ की दिव्यता, भव्यता और पौराणिक महत्व का प्रचार प्रसार पूरे देश के साथ विश्व में भी किया जाता है.
इतना ही नहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केदारनाथ धाम में आदि गुरु शंकराचार्य की प्रतिमा और ध्यान गुफा के रूप में आकर्षण के अवसर खोले हैं, इन्हीं सब कारणों के चलते पिछले कुछ सालों में बाबा केदार के प्रति लोगों की असीम आस्था देखने को मिल रही है. यही वजह है कि पिछले 2 साल बंदिशों में रही चारधाम यात्रा जब सामान्य रूप से खोली गई तो केदारनाथ धाम पर हर रोज हजारों की संख्या में यात्रियों का सैलाब उमड़ने लगा है.


मावी का वीडियो वायरलः एक तरफ जहां चारधाम यात्रा के प्रति लोगों की असीम आस्था बढ़ती जा रही है. वहीं, आस्था के केंद्र इन धामों पर आने वाले यूट्यूबर और ब्लॉगर से समस्याएं भी खड़ी हो रही है. करीब 2 साल पहले यानी साल 2019 का है. जब यूट्यूबर रिया मावी ने केदारनाथ यात्रा को लेकर एक वीडियो बना ली और 2020 में लॉकडाउन के दौरान सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया. इस वीडियो में केदारनाथ में पूजा अर्चना को लेकर कई आरोप लगाए गए थे. जिसके बाद रिया को सोशल मीडिया पर खूब ट्रोल भी किया गया था.
जब मामला तूल पकड़ने लगा तो रिया ने माफी भी मांगी. इतना ही नहीं पुरोहितों और हक-हकूकधारियों ने मुकदमा दर्ज कराने की बात भी कही. यह मामला अब 2 साल पुराना हो चुका है, लेकिन आज कल भी इस वीडियो को शेयर किया जा रहा है. जो केदारनाथ में यात्रा संचालन करने वाली बदरी केदार मंदिर समिति के सिर दर्द बना हुआ है. इस वीडियो को वर्तमान में चल रही यात्रा कहकर वायरल किया जा रहा है. जिससे केदारनाथ धाम को लेकर लोगों में भ्रम की स्थिति बन रही है.
केदारनाथ में कुत्ते का तिलकः इसके अलावा एक और वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. जिसमें एक साइबेरियन हस्की ब्रीड के कुत्ते को उसका मालिक केदारनाथ धाम में दर्शन करवा रहा है. केदारनाथ धाम में मौजूद नंदी पर कुत्ते से माथा टिकवा रहा है और तो और पंडित जी भी कुत्ते का तिलक कर रहे हैं. इस वीडियो को भी इंस्टाग्राम और यूट्यूब में अपलोड किया गया है. इस वीडियो को लेकर भी कई तरह के सवाल उठ रहे हैं. खासकर आस्था के साथ खिलवाड़ को लेकर लोगों में भारी आक्रोश है.

मामले में मंदिर समिति (Badri Kedar Temple Committee) का कहना है कि इस तरह कृत्यों पर मंदिर समिति एक सख्त कदम उठाने जा रहा है. बदरी केदार मंदिर समिति के अध्यक्ष अजेंद्र अजय का कहना है कि केदारनाथ धाम में कुत्ते का वीडियो वायरल हुआ है. जिसकी जांच की जा रही है. इस तरह के कृत्य अगर पवित्र धामों में किया जाएगा तो उसे किसी भी सूरत में बक्शा नहीं जाएगा. ऐसे में जब तक कोई मजबूत कदम नहीं उठाया जाएगा, तब तक ऐसे मामले सामने आते रहेंगे.
केदारनाथ धाम में यूट्यूबर्स और ब्लॉगर पर लग सकता है प्रतिबंधः बदरी केदार मंदिर समिति के अध्यक्ष अजेंद्र अजय का कहना है कि उत्तराखंड में मौजूद चारों धाम हिंदू धर्म के लोगों की असीम आस्था के प्रतीक हैं. यह धाम सभी के लिए प्रेरणादायक केंद्र है, लेकिन इस तरह जब सोशल मीडिया पर बिना किसी तथ्यात्मक जानकारी के वीडियो या फोटो को वायरल किया जाता है तो इससे कहीं न कहीं हमारी धार्मिक भावनाएं आहत होती हैं.
उनका कहना है कि रिया मावी का पुराना वीडियो वायरल किया जा रहा है. अब कुत्ते का वीडियो सामने आया है. निश्चित तौर से मंदिर समिति को इन धामों में आने वाले यूट्यूबर और ब्लॉगर पर सख्ती से पेश आने पर मजबूर होना होगा. इन तमाम घटनाओं को मद्देनजर रखते हुए बदरीनाथ और केदारनाथ में यूट्यूबर और ब्लॉगर पर प्रतिबंध लगाने पर विचार किया जा रहा है.

सोर्स ईटीवी

By DTI

error: Content is protected !!